Make Money

Where to Invest Your Money

invest
Written by lajawabhindi.com

दोस्तों आज हम आपको बताएंगे की कैसे आप अपने पैसे को invest कर के कम Risk में Profit कमा सकते है !
अंग्रेजी में Bond शब्द की उत्पति Binds से हुई है जिसका मतलब है “Instrument binding one to pay a sum to another” यानी एक ऐसा उपकरण जिसके द्वारा किसी को भुगतान के लिए बाध्यकारी किया जा सके !

Bonds क्या होते है:-

यह एक ऐसा निवेश उधारपत्र या प्रमाण पत्र होता है जिसको कोई सरकार या निजी कंपनी निवेशकों के लिए जारी करती है ! सरकार या निजी कंपनी मार्किट में निवेशकों से पूँजी उधार लेने के लिए Bonds जारी करती है तथा Bonds ज़ारी करने वाला निवेशकों को उनके निवेश के बदले में उधारपत्र के रूप में Bonds जारी करता है !
Bonds में जारीकर्ता ,निवेशकों से एक निश्चित्त अवधि के लिए उधार लेता है जिसे परिपक्वता या Maturity कहते है ! तथा परिपक्वता के बाद जारीकर्ता निवेशकों को ब्याज के साथ भुगतान करने के लिए बाध्यकारी होता है !
प्राथमिक बाज़ारो में सार्वजानिक प्राधिकरणों, क्रेडिट संस्थानों, कंपनियों और मुटिनेशनल संस्थानों द्वारा Bonds जारी किये जाते है ! Bonds जारी करने के लिए सबसे आम प्रक्रिया Underwriting के माध्यम से है लेकिन सरकारी Bonds आमतौर पर नीलामी के माध्यम से जारी किये जाते है !

Bonds और Stocks दोनों में अंतर

शेयर धारको (Stockholder)की कंपनी के Equity में हिस्सेदारी होती है जबकि Bondsholder के पास कंपनी में लेनदारी की हिस्सेदारी होती है ! लेनदार होने के कारण Bondsholder को Stockholder पर प्राथमिकता होती है !
investment

Bonds में निवेश:-

ज्यादातर केंद्रीय बैंको, संप्रभु धन निधि, पेंशन फण्ड, बीमा कंपनी ,हेज़ फण्ड और बैंको जैसी संस्थानों द्वारा Bonds खरीदे जाते है और व्यापार करते है ! बीमा कंपनी और पेंशन फण्डो में देनदरियों होती है ! जो अनिवार्य रूप से पहलेसे निश्चित तारीखों पर देय निश्चित रकम शामिल करती है ! वे अपनी देनदारी से मेल खाने वाले Bonds खरीदती है और ऐसा करने के लिए कानून द्वारा मज़बूर किया जा सकता है !अधिकाँश व्यक्ति जो बांड के मालिक बनना चाहते है वे Bond Fund के माध्यम से Bonds खरीदते है !

Features:-

•Principal:-Principal वो अमाउंट है जिस पर जारीकर्ता ,ब्याज का भुगतान करता है और जिसे आमतौर पर निश्चित अवधि के अंत में चुकाया जाता है !
•Maturity:- जारीकर्ता को तिथि पर मामूली राशि चुकानी पडती है इस तिथि पर निवेशकों को मुख्य अमाउंट चुकाया जाता है परिपक्वता की 3 श्रेणिया है:-
1.अल्पकालिक बिल :- परिपक्वता 1 से 5 साल के बीच !
2.माध्यम अवधि(नोट्स):- परिपक्वता 6 से 12 वर्षो के बीच !
3.दीर्घकालिक(Bonds):- परिपक्वता 12 वर्षो से अधिक !
•Coupon:- कूपन वह ब्याज दर है जो जारीकर्ता निवेशकों को भुगतान करता है ! और जो ब्याज दर होती है वो एक Bond जब तक ख़त्म नहीं होता है तब तक रहता है !
•Yield:-Yield, Bond में निवेश से प्राप्त रिटर्न दर है !
•Market Price:- एक व्यापार योग्य Bond का बाजार मूल्य अन्य कारको के साथ ब्याज ,भुगतान की मात्रा, मुद्रा और समय, और पूँजी चुकाने के कारण, Bonds की गुणवत्ता और अन्य तुलनीय की उपलब्ध रिडेम्पशन उपज द्वारा व्यापार किया जाता है !
•Indentures and Covenants:-Indentures एक औपचारिक समझौता होता है जो की शर्तो को स्थापित करता है ! जबकि Covenants इस तरह के समझौते का खंड है Covenants Bondholder के अधिकारों और जारीकर्ता के कर्तव्यों को बताता है !
•Optionality:- कभी कभी एक Bond में एक Embedded विकल्प होता हो सकता है यानी यह धारक या जारीकर्ता को विकल्प जैसी सुविधाएं प्रदान करता है !
•Putability:- कुछ Bondholder को जारीकर्ता निश्चित समय पर, परिपक्वता से पहले Bond चुकाने के लिये मज़बूर करने का अधिकार देता है इन्हे वापस लेने योग्य (Retractable)या रखे जाने योग्य(Putable)Bond के रूप में जाना जाता है !
•Call Dates and Put Dates:- तिथियां जिन पर Callable या Putable Bond को रिडीम किया जा सकता है

इसकी 4 मुख्य श्रेणी है:-

1.एक Burmudan Call करने योग्य में कई तिथियां होती है आमतौर पर कूपन तिथियों के साथ मिलता जुलता होता है !
2.A European Call करने योग्य में केवल एक तिथि होती है !
3.परिपक्वता तिथि तक किसी भी समय एक American Callable को बुलाया जा सकता है !
4.मृत्युदंड Redemption का एक अन्य विकल्प है जो मृत बंधक की सम्पति के लाभार्थी को Bondholder की मृत्यु या क़ानूनी अक्षमता की स्थिति में जारीकर्ता को Bond को वापस बेचने की अनुमति देता है इसे Survivor’s Option के रूप में जाना जाता है !

Types of Bonds:-

1.Fixed Rate Bonds
2.Zero-Coupon Bonds
3.High Yield Bonds (Junk Bonds)
4.Convertible Bonds
5.Exchangable Bonds
6.Inflation-Indexed Bonds
7.Asses-Backed Security Bonds
8.Subordinated Bonds
9.Covered Bonds
10.Perpetual Bonds
11.Bearer Bonds
12.Government Bonds
13.Municiple Bonds
14.Book-Entry Bonds
15.Lottery Bonds
16.Revenue Bonds
Foreign Currencies:- कुछ कंपनी, बैंको ,सरकारे तथा अन्य संस्थाए विदेशी मुद्राओ में Bonds जारी करने का निर्णय ले सकती है
निन्मलिखित उदाहरण foreign Currency Bond के है:-
1.Eurodollar Bond
2.Yankee Bond
3.Samurai Bond
4.Kangaroo Bond
5.Bulldog Bond
6.Panda Bond

About the author

lajawabhindi.com

7 Comments

Leave a Comment