motivational

Time Management

Written by Suraj

आज की दुनिया में मनुष्य के जीवन में समय(time) का बहुत महत्व है। जिंदगी समय(time) की रफ़्तार(speed) से भागती है| सब के पास समय(time) की कमी रहती है| कुछ लोग ऐसे होते है जिनके जीवन में समय का बहुत महत्व(importance) होता है और कुछ लोग ऐसे भी होते है जो समय की परवाह नहीं करते| उनके लिए टाइम की इज़्ज़त करना महत्वपूर्ण नहीं होता|

ऐसे लोग अपने जीवन का आधा समय(time) व्यर्थ में बिता देते है। समय(time) पृथ्वी पर सबसे कीमती वस्तु है, इसकी तुलना किसी से भी नहीं की जा सकती है। यदि एकबार यह चला जाए, तो कभी वापस नहीं आता। यह हमेशा आगे की ओर सीधी दिशा(direction) में चलता है और न कि पीछे की ओर। इस संसार में सब कुछ समय(time) पर निर्भर करता है, समय से पहले कुछ भी नहीं होता है।

कुछ भी करने के लिए कुछ time की आवश्यकता होती है। यदि हमारे पास time नहीं है, तो हमारे पास कुछ भी नहीं है। समय को नष्ट करना समय(time) की बर्बादी हमें और हमारे भविष्य को बर्बाद करती है। हम कभी भी बर्बाद किए हुए समय(time) को फिर से प्राप्त नहीं कर सकते हैं। यदि हम अपना समय बर्बाद कर रहे हैं, तो हम सब कुछ नष्ट कर रहे हैं।

तो आइए आज हम आपको बताते हैं अपना समय सही से यूज़ करने के कुछ तरीके। यानि कि टाइम मैनेजमेंट(time management) के बारे में।

ज़रूरी कामों की एक लिस्ट बनाये(Make a to do list)

रात को सोने से पहले अगले दिन जो जरूरी कार्य(work) को करने हैं उनकी एक लिस्ट(list) बना लें। इसमें यह भी तय कर ले कि हमें किस कार्य(work) को कितना समय देना है। ऐसा करने से आपके सारे जरूरी काम समय पर पूरे हो जाएंगे। आपका समय(time) इससे नष्ट भी नहीं होगा और आप इसका उपयोग बेहतर ढंग से कर पाएंगे। अगले दिन सोने से पहले चेक करें की क्या मैंने सब काम सही से किए।

काम की महत्वता को समझें ( Prioritize your work)

दिन भर में ऐसे बहुत से कार्य(work) होते हैं जिनको हम करते रहते हैं। लेकिन किसी भी कार्य(work) को करने से पहले हमें खुद से यह पूछना चाहिए कि यह हमारे लिए कितना उपयोगी(important) है। मतलब जो work हमारे लिए उपयोगी ज्यादा है उसे हमें पहले करना चाहिए। बाकी के काम बाद में करने चाहिए।

इस को तीन भागों(categories) मे बांटा जा सकता है।

Urgent and important-

यह काम हमें सबसे पहले करना चाहिए उसके बाद दूसरे कार्य को करना चाहिए। क्योंकि इन्हें करने से ही हमारी आगे की ज़िंदगी(life) तय होती है। जैसे किसी को कोई कॉम्पिटेटिव(competitive) एक्जाम निकालना है तो उसके लिए सबसे महत्वपूर्ण काम है पढ़ना। तो उसको इस काम पर दूसरे कामों से ज्यादा ध्यान देना चाहिए। इसके अलावा इस कैटेगरी में और भी कई काम हो सकते हैं।

Important but not urgent-

ऐसे बहुत से काम होते हैं जो important तो होते हैं लेकिन उनको करना urgent नही होता। मतलब ऐसे काम हम बाद में समय निकालकर कर सकते हैं। जैसे रोज खेलना व exercise करना हमारे लिए बेहद important है लेकिन अर्जेंट नहीं है। तो ऐसे में अगर हमारे पास समय की कमी पड़ रही है तो हम यह काम बाद में भी कर सकते हैं।

Urgent but not important

हमें कोशिश करनी चाहिए कि इन कार्यों को हम कम से कम समय दें। ऐसे काम जो हमारे लिए ज्यादा important नहीं है लेकिन हमको फिर भी करने पड़ते हैं। जैसे mail चेक करना, फ़ोन कॉल का जबाब देना, रोज़ लोगों से मिलते रहना। ऐसा नहीं है कि इनको बिल्कुल समय नहीं देना चाहिए लेकिन हमें कम से कम कम समय देना चाहिए।

Deadline सेट करें

किसी भी कार्य को करने की deadline जरूर सेट करें। हमें अपने दिमाग में रखना चाहिए कि यह कार्य हम को 1 दिन में पूरा करना है या 1 हफ्ते में पूरा करना है। कार्य के हिसाब से उसकी डेडलाइन(deadline) सेट करें। कोशिश करें कि उस डेडलाइन से पहले ही उस कार्य को समाप्त कर लिया जाए। इससे बेहद फायदे होते हैं। आपका समय बेवजह व्यर्थ(waste) नहीं जाता। इसके साथ ही आप ज्यादा productive भी बनते हैं।

ध्यान भटकाने वाली चीजों से दूर रहें( Avoid distractions)

ऐसी चीजें जो आपका ध्यान भटकाती हैं उनसे दूर रहें क्योंकि यही चीज होती है जो आपका समय सबसे ज्यादा खराब करती हैं। इसका सबसे बढ़िया उदाहरण है Mobile. मोबाइल(Mobile) का इस्तेमाल हमें बेहद कम करना चाहिए। हमें केवल जरूरत के समय ही मोबाइल(mobile) का इस्तेमाल करना चाहिए। बहुत से युवा हर टाइम मोबाइल(mobile) में लगे रहते हैं और इसी से उनका सारा समय खराब हो जाता है। फिर वे अपनी असफलताओं के लिए दूसरों पर इल्जाम(blame) लगाते हैं। इसलिए अगर आपको अपने समय की परवाह करनी है तो मोबाइल व टीवी(television) से दूरी बनाए रखें और केवल जरूरत के समय उन्हें इस्तेमाल करें। जितने भी सफल इंसान हैं वे इन दो चीजों से जरूर दूरी बनाए रखते हैं।

‘ना’ कहना सीखें (Learn to say No)

आपको अपनी जिंदगी में ऐसे बहुत से लोग मिलेंगे जो आपके समय को व्यर्थ(waste) करने की कोशिश करेंगे। जैसे आपके पढ़ने(study) का समय होगा तो वह लोग आएंगे और कहेंगे चलो घूमने चलते हैं या खेलने चलते हैं। तो आपको ऐसे लोगों से ना(No) कहना सीखना होगा। आप कह सकते हैं कि यह मेरे पढ़ने या किसी ज़रूरी कार्य करने का समय(time) है, मैं इसके बाद खेलूंगा.

कोशिश करें कि ज्यादा से ज्यादा समय(time) आप खुद पर खर्च करें जिससे आपके भविष्य की नींव पड़ती है। जो इंसान खुद को improve करने के लिए समय का इस्तेमाल करता है वह जरूर ही सफल बनता है।

About the author

Suraj

2 Comments

Leave a Comment