Health Tips

Heart Attack Kya Hai

heart attack in hindi
Written by lajawabhindi.com

जैसे जैसे जिंदगी की रफ्तार जिंदगी की रफ्तार बढ़ती जा रही है और लोग दिन पर दिन busy होते जा रहे हैं, उसी तेज़ी से हृदय रोग(heart disease) के case बढ़ते जा रहे हैं। आधुनिक दुनिया में ह्रदय(heart) से संबंधित रोग वाले लोग आपको काफी मिल जाएंगे। लाइफस्टाइल(lifestyle) और रोज के तनावों के चलते ज्यादातर लोग दिल के मरीज बनते जा रहे हैं। हम अक्सर सुनते हैं काफी लोगों की हार्ट अटैक(Heart attack) के कारण चंद ही मिनटों में देहांत(death) हो जाती है। हालांकि कभी-कभी बाहर से लोग आप को एकदम स्वस्थ व सुरक्षित मालूम पड़ेंगे। तो आज हम आपको बताने वाले हैं हृदय रोग(heart disease) के बारे में पूरी जानकारी एवं इनके लक्षण(symptoms) क्या होते हैं और कैसे हृदय संबंधित बीमारियों से बचें।

तो पहले बात करते हैं हार्ट अटैक(heart attack) के बारे में-
क्या है हार्ट अटैक ? ( What is heart attack? )

Heart Attack को आम भाषा में दिल के दौरे के रूप में जाना जाता है। हार्ट अटैक के दौरान दिल में जा रहे रक्त(blood) के बहाव में बाधा आती है। जिसके कारण हृदय के कुछ भागों में रक्त नहीं पहुंच पाता है। खून नहीं मिलने के कारण हृदय की मांसपेशियों(muscles) में खून की कमी हो जाती है। अगर सही समय पर रक्त के प्रभाव(blood flow) को ठीक नहीं किया जाए तो और वहां की कोशिकाएं(cells) मर जाती हैं।
heart attack in hindi


हालांकि हृदय रोग कई प्रकार के हो सकते हैं। लेकिन हम केवल हार्ट अटैक के बारे में जानते हैं। तो चलिए आपको बताते हैं कि और कितने प्रकार के ह्रदय रोग होते हैं।
★ एरिथमिया(Arrhythmia)
एरिथमिया(Arrhythmia) हृदय से संबंधित एक ऐसी बीमारी है जिसमें अचानक से आपके दिल की धड़कन काफी तेज हो जाती है और कभी-कभी अचानक से धीरे भी हो जाती है।

★ एथेरोस्क्लेरोसिस(Atherosclerosis)
इस हृदय रोग(heart disease) में मनुष्य के हृदय में खून की सप्लाई कम हो जाती है। इस कारण हृदय तक सही मात्रा(quantity) में रक्त नहीं पहुंच पाता है। यह रोग अक्सर ऐसे लोगों को होता है जिनमें कोलस्ट्रोल(cholesterol) की मात्रा बड़ी हुई पाई जाती है एवं जो धूम्रपान(smoking) करते हैं। जिनका ब्लड प्रेशर high रहता है उनको भी यह समस्या हो जाती है। इस हृदय रोग में अगर सही समय पर उपचार(treatment) का हो तो स्थिति काफी गंभीर(serious) हो सकती है।

★ कॉन्जेनिटल हार्ट डिसीज़(Congenital heart disease)
यह ह्रदय रोग कुछ लोगों को जन्म(birth) से ही होता है। यह रोग जब शिशु अपनी माता के गर्भ(womb) में होता है तभी उसको हो जाता है। बच्चे born होने के बाद यह रोग कुछ सालों तक तो ठीक से पता भी नहीं चल पाता है। हालांकि जैसे जैसे बच्चा बड़ा होने लगता है तब इसकी जांच हो पाती है।
★ कार्डियोमायोपैथी(Cardiomyopathy)
इस हृदय रोग के अंतर्गत दिल की जो मांसपेशियां(muscles) है उनका आकार(size) बड़ा हो जाता है और वह कमजोर हो जाती हैं। इस बुक को लोग Broken Heart syndrome भी कहते हैं।
ऐसा कई बार होता है कि हृदय रोगों(Heart disease) से संबंधित लक्षण(symptoms) हम बे नजर कर देते है। हम उनको पहचानने में काफी देर कर देते हैं। अगर हम सही समय पर हृदय रोगों संबंधित लक्षण को पहचान ले तो हम इन रोगों से लड़ने के लिए पहले से ही तैयार हो सकते हैं। तो चलिए अब आपको बताते हैं ऐसे कुछ लक्षण(symptoms) जिन्हें आपको कभी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

★ सीने(chest) में हल्का हल्का दर्द रहना या थोड़ी असहजता रहना ह्रदय रोगों का पहला लक्षण होता है। अगर ऐसा एक नियमित रूप से हो रहा है तो उसको बिल्कुल नजरअंदाज(ignore) ना करें और तुरंत doctor से मिलें।
* दूसरा सबसे साधारण लक्षण है जल्दी जल्दी सांस उखड़ना। बुजुर्गों(Olds) में इसके कई कारण हो सकते हैं लेकिन अगर आप युवा(young) हैं और आपके साथ ऐसा होता है तो यह ह्रदय रोग का एक लक्षण है।
★ खुद को व दूसरों को लेकर काफी चिंतित रहना और हमेशा दुखी रहना भी ह्रदय रोग(heart disease) का एक लक्षण हो सकता है।
* छाती(chest) से लेकर आपके कंधो, बाजुओं, कमर, गर्दन, दांतों अथवा जबड़ों(jaws) मे भी हृदय रोग के कारण दर्द रहता है।
★ पेट में दर्द रहना(Pain in stomach)

इनके अलावा और कई छोटे-छोटे लक्षण(symptoms) भी हो सकते हैं जो हृदय रोगों की ओर संकेत कर रहे हो। इसलिए उनको बिल्कुल नजरअंदाज(ignore) ना करें। अब हम आपको बताएंगे ऐसे कुछ उपाय जिनसे आप हृदय रोगों को दूर कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं उनके बारे में।

यह भी पढ़े :-
* Yoga Benefits Of Yoga योग तथा योग के फायदे
Meditation
* Diabetes Meaning Symptoms शुगर का घरेलू इलाज

★ वॉक पर जाएं (Morning walk and evening walk)

अगर आपको ह्रदय रोगों को दूर रखना है तो यह उपाय आपके लिए बेहद जरूरी है। रोजाना सुबह और शाम कम से कम आधे घंटे के लिए टहलने(walk) पर जरूर जाएं। प्रयास करें कि आप अपने मित्रों के साथ व परिवार के साथ ऐसा कर पाए।

★ ज्यादा से ज्यादा फल व सब्जियां खाएं ( Green vegetables & fruits)

आपको ज्यादा से ज्यादा कच्ची हरी सब्जियां(raw green vegetable) व सभी प्रकार के फल का सेवन अवश्य करें। यह उपाय हरदा रोगों से बचाने में काफी कारगर साबित होता है।

★ दोस्तों के साथ लंच करें (Lunch with friends)

अगर आप ऑफिस(office) में काम करते हैं तो सदैव ही अपने दोस्तों के साथ बैठकर lunch करें। इससे आपका मन भी पसंद होता है और अंदर शांति भी मिलती है।

★ रात में समय पर सोएं ( Proper sleep at night)

इस भाग दौड़ भरी जिंदगी(Busy life) में इंसान अपनी नींद बहुत कुर्बान करता है। नियमित समय पर ना सोने के कारण भी हृदय रोग होते हैं। तो जितना हो सके एक निश्चित समय पर सोएं।

★ सुबह उठकर योगा करें (Yoga Everyday)

हृदय पीड़ित(Heart victims) लोगों को सुबह उठकर योगा व् meditation जरूर करना चाहिए। योगा हमारे मन की शांति व हृदय के लिए काफी फायदेमंद चीज है। ऐसा करने से सुबह-सुबह हम एकदम शुद्ध ऑक्सीजन अंदर लेते हैं.

About the author

lajawabhindi.com

Leave a Comment