History

Genewa Convention

Written by Suraj

                                                           GENEWA CONVENTION

नमस्कार दोस्तों ! आज के blog में हम एक बहुत ही important convention के बारे में बात करने जा रहे है ! जिसके बारे में अभी बहुत ही ज्यादा बात की जा रही है और यह convention युद्धबंदियों से सम्बंधित है जिसको Genewa convention के नाम से जाना जाता है ! आज के ब्लॉग को पढ़ने के बाद आपको बहुत ही ज्यादा important जानकारी मिलेगी कि क्यों पाकिस्तान को अभिनन्दन जी को छोड़ना पडा ?

Genewa convention से पहले चार बहुत ही ज्यादा important convention हो चुके थे तथा उन कन्वेंशन के important points को बाद में जेनेवा में हुआ कन्वेंशन से लागू करने का प्रयास किया गया था

चारो कन्वेंशन निम्नलिखित सालो में हूए थे

1864

1906

1929

1949

1864 का कन्वेंशन:-

इस पहले कन्वेंशन में लाने हेतु कुछ नियम कानून बनाये गए है

घायल सैनिको को मदद पहुंचाने वाली संस्थाओ और उनके लोगो पर कोई हमला नहीं किया जायेगा !
सभी लोगो को निष्पक्ष मेडिकल हेल्प दी जाएगी और घायल लोगो की मैडम करने वाले नागरिको को सुरक्षा दी जाएगी !
घायल और बीमार सैनिको की भेदभाव रहित रक्षा और देखभाल करने का प्रावधान !
युद्धबंदियों को मारने किसी भी प्रयास को निषेध घोषित !
बीमार और घायल सैनिको को मारने पर प्रतिबंध !
घायलों और बीमार युद्धबंदियों की सेवा में जुटे लोगो पर आक्रमण नहीं किया जायेगा !

1906 का कन्वेंशन:-

समुन्द्र में घायल बीमार एवं नष्ट हुए पोत के सदस्य सैनिको की स्थिति में सुधार हेतु इस कन्वेंशन को किया गया था !

1929 का कन्वेंशन:-

युद्ध बंदियों के साथ मानवीय व्यवहार करना और उनसे सम्बंधित सूचनाएं प्रदान करना और तथस्ठ देशो द्वारा बंदी शिवारो का निरीक्षण करना !
युद्ध बंदियों के साथ मानवीय व्यवहार करना !
पर्याप्त भोजन और सहायता सामग्री युद्धबंदियों को देना !
किसी भी युद्धबंदी को किसी भी प्रकार की सूचना देने के लिए मज़बूर नहीं किया जा सकता है !

1948 का कन्वेंशन:-

इस कन्वेंशन का सबसे important प्रावधान था कि सैनिको को बंदी बनाने पर प्रतिबध लगाया गया था !
व्यक्तिगत सम्मान की अवमानना पर प्रतिबन्ध लगाया गया !
यातना और समुचित दंड पर प्रतिबंध लगाया गया !
जाति, धर्म, राष्ट्रीयता के आधार पर कोई भेदभाव नहीं किया जायेगा !

1977 में, 1949 के convention में जोड़े गए प्रावधान:-

इंटरनेशनल सशस्त्र विद्रोह के पीड़ितों से सम्बंधित प्रोटोकॉल !
गैर इंटरनेशनल सशस्त्र विद्रोह के पीड़ितों से सम्बंधित प्रोटोकॉल !

 

About the author

Suraj

Leave a Comment

2 Comments