Science Facts Technology

प्लास्टिक सर्जरी के जनक Father Of Plastic Surgery

प्लास्टिक सर्जरी के जनक
Written by Abhilash kumar

प्लास्टिक सर्जरी (Plastic Surgery) के बारे में तो आप सभी ने सुना ही होगा। प्लास्टिक सर्जरी में सर्जन(Surgen) शरीर के किसी हिस्से के उत्तकों को लेकर दूसरे हिस्से में जोड़ता है। Science ने इतनी तरक्की कर ली है कि अगर आपको अपने शरीर का कोई भी हिस्सा पसंद नहीं आ रहा है तो आप प्लास्टिक सर्जरी(Plastic Surgery) से उसको खूबसूरत बना सकते हैं।
हालांकि इसको केवल खूबसूरती(beauty) पाने के लिए ही इस्तेमाल नहीं किया जाता है। लेकिन आज के समय में यह काफी कॉमन हो गया है।
आप आए दिन अखबार में पढ़ते होंगे कि आज इस अभिनेता(Actor) ने प्लास्टिक सर्जरी कराई और आज इस अभिनेत्री(Actress) ने। प्लास्टिक सर्जरी का आप सबसे साधारण उदाहरण देख सकते हैं माइकल जैकसन को। Michael Jackson जोकि बहुत बड़े पॉप स्टार(Pop Star) थे। उन्होंने काफी प्लास्टिक सर्जरी खूबसूरत दिखने के लिए अपने चेहरे पर कराई।

प्लास्टिक सर्जरी का इतिहास (history of Plastic surgery)

लेकिन क्या आप जानते हैं कि Plastic surgery कोई नई चीज नहीं है। आज से करीब 2500 साल पहले यह इस्तेमाल की गई थी। प्लास्टिक सर्जरी के जनक(father) माने जाने वाले सुश्रुत(Sushruta) ने इस को सबसे पहले इस्तेमाल किया। वे इस का इस्तेमाल प्राकृतिक आपदाओं में एवं युद्ध(war) के समय जिनकी नाक(nose) खराब हो जाती थी उसको ठीक करने में इस्तेमाल करते थे|
सुश्रुत का जन्म 600 वर्ष ईसा पूर्व(before Christ) में हुआ था। उनको विश्वामित्र का वंशज भी माना जाता है। वे पहले चिकित्सक(Surgen) थे जिन्होंने उस शल्य क्रिया(Surgery) का प्रचार किया जिसे आज सिजेरियन ऑपरेशन(Sygerian operation) कहते है।

उनके समय में ना ही कोई बड़ी प्रयोगशाला(Lab) थी और ना ही कोई आधुनिक यंत्र(Advance Instrument)। इसके बावजूद भी उन्होंने अपने ज्ञान और अनुभव से Medical field में ऐसे उल्लेखनीय काम किए जिनकी बदौलत आज मेडिकल साइंस(Medical Science) इतना विकसित है।
यह भी पढ़े :-
जानिये क्या है Healthy Snacks और इसके प्रकार
* Dipression Se Bachne Ka Tareeka ( डिप्रेशन से बचने का तरीका )

प्लास्टिक सर्जरी के जनक (father of plastic surgery)

आइए आपको बताते हैं सुश्रुत से जुड़ी एक interesting story जिसने प्लास्टिक सर्जरी की शूरूआत की-

रात का समय था। अचानक से सुश्रुत का दरवाज़ा(Gate) किसी ने जोर जोर से खटखटाया। इस पर सुश्रुत उठ कर गए अपनी मशाल(Light) लेकर दरवाजा खोला। उन्होंने देखा एक अजनबी(Stranger) व्यक्ति gate पर खड़ा है और उनसे सहायता की मांग कर रहा है। उसकी आंख में आंसू थे एवं उसकी कटी नाक से खून बह रहा था। सुश्रुत ने उसको अंदर आने को कहा और उसे दिलासा दी कि सब कुछ ठीक हो जाएगा।
वह अजनबी को एक साफ़ – सुथरे कमरे में ले गये। चिकित्सा(Surgery) के उपकरण(instrument) दीवारों पर टंगे हुए थे। उन्होंने बिस्तर खोला और उस अजनबी से बैठने के लिए कहा। फिर उसे दवा मिले पानी से मुंह धोने के लिए कहा। सुश्रुत ने अजनबी को एक गिलास में कुछ द्रव्य(Liquid) पीने को दिया और खुद सर्जरी की तैयारी करने लगे।

बगीचे से एक बड़ा सा पत्ता लेकर उन्होंने अजनबी की नाक नापी। उसके बाद दीवार से एक चाकू और चिमटी लेकर इन्हें आग की लौ(flame) में गर्म किया। उसी गर्म चाकू से अजनबी के गाल से कुछ मांस काटा। आदमी दर्द से कराह लेकिन उसकी पीड़ा नशीला द्रव्य(toxic liquid) पीने के कारण बहुत कम हो गई थी।
इसके बाद उन्होंने गाल(Cheek) से कटा हुआ मांस बड़ी ही सावधानी से अजनबी की नाक पर आकार देते हुए लगा दिया। उसके बाद उन्होंने उस अजनबी को कुछ जड़ी बूटियों(Ayurvedic Medicine) की सूची दी और उससे कहा कि इन्हें नियमित रूप से लेते रहे। और कुछ दिनों बाद उन्हें फिर से दिखाएं।

सुश्रुत ने उस समय जो किया उसके विकसित रूप को आज Plastic Surgery कहते हैं। यह सुश्रुत की बदौलत ही है कि हम Plastic Surgery से अपने शरीर के damage skin को रिपेयर कर सकते हैं।
आज भी पूरे संसार में सुश्रुत को Plastic Surgery का जनक यानि कि ‘Father of plastic surgery’ कहा जाता है।

प्लास्टिक सर्जरी के दुष्प्रभाव (Bad effects of plastic surgery)

हालांकि आज के समय में जो लोग प्लास्टिक सर्जरी कराते हैं उससे उन लोगों को काफी नुकसान भी होता है। चलिये आपको बताते हैं प्लास्टिक सर्जरी के कुछ दुष्प्रभाव(bad effects) –

plastic surgery से समय(time) व पैसे(money) की बहुत बर्बादी होती है। प्लास्टिक सर्जरी बहुत महंगी होती है इसलिए हमने अक्सर देखा है कि आम लोग इसे नहीं करा पाते। इसके साथ साथ ही इसमें बहुत समय लगता है जिसमें आपको महीनों तक बाहर नहीं निकलना होता है।

* plastic surgery कोई प्राकृतिक(Natural) चीज नहीं है। इसलिए कई बार ऐसा भी होता है कि प्लास्टिक सर्जरी कराने के बाद हमको काफी असहज भी महसूस होता है।

plastic surgery से आपकी त्वचा को भी नुकसान होता है क्योंकि वह प्राकृतिक(natural) नहीं रहती है।

* अगर सर्जन(Surgen) से अनजाने में जरा सी भी कोई लापरवाही हो जाती है तो इसका बहुत बड़ा हर्जाना(price) आप को भुगतना पड़ सकता है।

About the author

Abhilash kumar

Hello Friends this is Abhilash kumar. A simple person having complicated mind. An Engineer, blogger,developer,teacher who love ❤️ to gather and share knowledge ❤️❤️❤️❤️.

Leave a Comment

6 Comments

  • […] क़ुतब मीनार भारत में दिल्ली शहर के महरोली में ईंट से बनी हुई सबसे ऊँची मीनार है इसका व्यास आधार 14.32 मीटर और 72.5 की उंचाई है इस मीनार की नीव गुलाम वंश के राजा कुतुबुदीन ऐबक ने 1199 ई. में रखी थी इसकी सभी मंजिल के आगे की और बढ़े हुए छज्जे है. इस मीनार के चारो और मधुमक्खी के छत्ते के समान बनावट की हुई है. इसकी पहली मंजिल की बनावट लोगों के आकर्षण का केंद्र बनी हुई है. उसके बाद जैसे ही ऊपरकी और देखते है तो इसकी सजावट धीरे धीरे कम होती जाती है. इसमें 27 हिन्दू जैन मंदिर के वास्तुकलात्मक मूर्तियाँ स्थापित है. यह भी पढ़े :- ★ रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है? (Why Rakshabandhan Is Celebrated) * प्लास्टिक सर्जरी के जनक Father Of Plastic Surgery […]