Health Tips

Diabetes Meaning Symptoms शुगर का घरेलू इलाज

diabetes
Written by Abhilash kumar

मधुमेह{Diabetes} वर्तमान में बहुत बड़ी बिमारियों में से एक बीमारी है ! जिसने लोगो के अंदर बहुत ज्यादा आतंक मचा रखा है ! सबसे बड़ी समस्या यह है कि मधुमेह को सिर्फ नियंत्रित किया जा सकता है इसको जड़ से ख़त्म नहीं किया जा सकता है ! मधुमेह का प्रभाव हमारी किडनी ,आँखों ,ह्रदय और ब्लड प्रेशर पर पड़ता है ! प्रत्येक वर्ष 14 November को International Diabetes Day मनाया जाता है !

मधुमेह क्या है:-
मनुष्य को किसी भी काम को करने के लिए ऊर्जा की जरुरत होती है जो हमको भोजन से मिलता है ! जो भोजन हम खाते है वो अंतिम रूप में ग्लूकोस में बदलता है जिसको सभी कोशिकाओं में पहुंचाया जाता है ग्लूकोस को कोशिकाओं में इन्सुलिन द्वारा ही पहुंचाया जाता है ! मधुमेह के रोगी में इन्सुलिन बनना बंद या बहुत कम हो जाता है जिसके कारण उसके शरीर में ग्लूकोस या शक्कर की मात्रा बहुत ज्यादा बढ़ जाती है !

मधुमेह के प्रकार:-

Type 1:- इस प्रकार का मधुमेह 20 वर्ष से कम उम्र के बच्चो में पाया जाता है, इसमें अग्राशय{Pancreas} की बीटा कोशिकाओं को स्वेत रक्त कोशिकाए नष्ट कर देती है जिसके कारण वे INSULIN न नही बना पाती है इसमें रोगियों को इंजेक्शन के माध्यम से उनके शरीर में INSULIN डाला जाता है इसको Insulin Dependent Diabetes Mellitus,IDDM भी कहते है

Type 2:- इस प्रकार के रोगियों में इन्सुली बहुत कम बनता है या उसका सही से उपयोग नहीं हो पाता है ! इस समय ज्यादातर लोग इस प्रकार से ही बहुत ज्यादा ग्रसित है ! इसको सही जीवनशैली से काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है ! इसके Non Insulin Dependent Diabetes Mellitus,NIDDM भी कहते है !

मधुमेह के लक्षण:- मधुमेह के निम्नलिखित लक्षण है ! अगर आपको ज्यादातर लक्षण दिखाई दे तो आपको तुरंत जांच करवानी चाहिए
•अत्यधिक भूख लगना
•बार बार पेशाब आना
•अधिक नींद आना
•आँखों की रौशनी कम होना
•ज्यादा प्यास लगना
•कमजोरी महसूस करना
•चोटों या घाँव का देरी से भरना
•जल्दी थकान होना
•किसी भी चीज से जल्दी इन्फेक्शन होना
•अचानक वजन में कमी
•किडनी ख़राब होना

मधुमेह के कारण:-

अनुवांशिक
खान पान का सही न होना
ज्यादा शरीरिक श्रम न करना
तनाव
गर्भावस्था
उच्च रक्त चाप
इन्सुलीन की कमी
धूम्रपान और तम्बाकू का सेवन
मधुमेह का इलाज और बचाव:-
मधुमेह चिंता और तनाव से भी होता है जितना हो सके तनाव न ले ! Exercise और Meditation करे ! जितना हो सके शारीरिक श्रम करे, अच्छी

नींद ले और आपने वजन पर नियंत्रण रखे !

जितना हो सकते संतुलित आहार ले ! मीठी चीजे या Fat वाला भोजन और जूस से परहेज करे !
मधुमेह के रोगी कपालभाति, प्राणायाम, अनुलोम, विलोम और मडूकासन करे !
अगर आपको मधुमेह है तो आप आपने शरीर का ध्यान रखे ! अगर आपको चोट लगती है तो उसको नज़रअंदाज़ न करे क्यूंकि इन्फेक्शन तेज़ी से फैलता है !
डॉक्टर की सलाह पर ही कोई भी दवाई ले !

मधुमेह के घरेलु उपचार:-

करेला:- करेला में ग्लूकोस की मात्रा न के बराबर होती है इसको खाने या पीने से शरीर में इंसुलिन की मात्रा बढ़ जाती है करेला का जूस निकल कर उसमे थोड़ा पानी मिलकर खाली पेट पीने से बहुत ज्यादा फायदा होता है !
तुलसी के पत्ते:- तुलसी के पत्ते में शुगर कम करने की क्षमता होती है तुलसी के पत्ते का रस खाली पेट 2 चम्मच पीना काफी लाभदायक होता है !
आँवला:- मधुमेह के नियंत्रण के लिए विटामिन C बहुत ज्यादा सहायक है और आवला विटामिन C का बहुत अच्छा स्रोत्र है ! आवला का 2 चम्मच जूस 1 कप पानी में मिलाकर खाली पेट पीने से मधुमेह के रोगियों के लिए लाभदायक सिद्ध होता है !
जामुन:- जामुन के बीज, फल, पत्तिया सभी मधुमेह के लिए रामबाण है ! जामुन की गुठली को पीसकर सुबह शाम एक-एक चम्मच पानी के साथ खाने से मधुमेह को नियंत्रित किया जा सकता है !
नीम की पत्ती:- यह भी मधुमेह को नियंत्रित करती है क्यंकि इसमें Antidibitic Properties होती है अगर आप सुबह खाली पेट 8-10 पत्तिया खाये या पत्तियों का जूस निकालकर लगातार 2-3 महीने पीने से मधुमेह पर नियंत्रण रहता है !

About the author

Abhilash kumar

Hello Friends this is Abhilash kumar. A simple person having complicated mind. An Engineer, blogger,developer,teacher who love ❤️ to gather and share knowledge ❤️❤️❤️❤️.

Leave a Comment

10 Comments