Poetry

दर्द से दोस्ती

दर्द से दोस्ती | Dard Se Dosti
Written by Abhilash kumar

~~~दर्द से दोस्ती (Dard Se Dosti)~~~

जब मरने का इरादा कर ही लिया हो…
तो हर मौत छोटी लगती है…

दर्द ही सहना है मेरे दोस्त
तो इश्क कर ले…
ये तुझे इतना तडपाएगा
की ना जीने देगा…
ना मरने देगा…

तुझे गलत कहने को जी चाहता है

तुझसे तेरी हँसी भी छीन लेगा…
इतने इलजाम लगाएगा तुझ पर
की हया को भी हया आ जाये…
क्या करें ये चीज ही ऐसी है
ना बरबाद करेगा…
ना आबाद होने देगा…

पर जो भी है…
इश्क़ है कमाल का…
हो जाए तो तू खुद को भूल जायेगा पर उसकी हर बात याद रहेगी…
उसकी खुशी हर खुशी से बड़ी लगेगी…
वो जो एक बार मुस्कुरा कर देख ले
तो अपना हर गम भूल जायेगा…
उसे ही सोच सोच कर
तन्हाई में मुसकुरायेगा…

~~~दर्द से दोस्ती (Dard Se Dosti)~~~

मुहब्बत तुझे हर मोड़ पर आजमायेगी…
उसे खोने के डर से
तेरी रूह तक कांप जायेगी…
तू लाख कोशिशों के बाद भी हार जायेगा…
पर तेरा दिल हमेशा उसे ही चाहेगा…
उसकी खुशी की खातिर तू भी मुसकुरा देना…
धीरे धीरे उससे दूऱिया बड़ा लेना…
इतना बदल लेना खुद को
कि वो कभी तुझे याद ना करना चाहे…
इस तरह पेश आना उसके आगे
की उसे तेरे नाम से नफरत हो जाये…
फिर भी यही कहूंगा
की इश्क़ बड़ा ही प्यारा होता है…
भले ही मिले ना कभी

फिर भी वो बस हमारा ही होता है…
फिर भी वो बस हमारा ही होता है…😢

दर्द से दोस्ती | Dard Se Dosti

दर्द से दोस्ती | Dard Se Dosti

About the author

Abhilash kumar

Hello Friends this is Abhilash kumar. A simple person having complicated mind. An Engineer, blogger,developer,teacher who love ❤️ to gather and share knowledge ❤️❤️❤️❤️.

Leave a Comment

2 Comments