Health Tips

Benefits of Aloe Vera ( एलोवेरा के फायदे )

Aloe Vera
एलोवेरा के फायदे (Benefits Of Aloe Vera)

एलोवेरा (Aloe Vera) इस घृत कुमारी नाम से भी जाना जाता है. इसे प्राचीन काल से ही औषधि के रूप में उपयोग किया जाता है. एलोवेरा में लगभग 200 तत्व पाए जाते हैं, एलोवेरा में विटामिन्स, मिनरल, एमिनो एसिड, एंजाइम एंव फैटी एसिड जैसे तत्व पाए जाते है. इसकी वजह से ही पिछले 5000 सालो से इसका उपयोग दवाओं के रूप में किया जाता है. एलोवेरा को अगर संजीवनी का नाम दिया जाए तो गलत नहीं है, क्योंकि यह अकेली ऐसी औषधि है जो लगभग सभी दवाओं में मिलती है. एलोवेरा के अनेक फायदे हैं. हम आज इस आर्टिकल के माध्यम से आपको एलोवेरा के इन्ही फायदों के बारें में बताने वाले हैं. यह फायदे इस तरह है –

पाचन क्रिया में साहयक

यदि पेट में खाना पच नहीं रहा है और गेस जैसी प्रॉब्लम हो रही है तो एलोवेरा के रस में शहद और नींबू मिलकर इसका सेवन कर सकते है. इससे पाचन शक्ति बढती है एंव पेट संबधित सभी बिमारियों में इसका उपयोग होता है.

कब्ज से छुटकारा

एलोवेरा (Aloe Vera)का ज्यूस पीने से कब्ज से छुटकारा मिलता है. छोटे बच्चो में अगर कब्ज की प्रॉब्लम हो तो एलोवेरा का ज्यूस उसकी नाभि के पास लगा देंवे. ऐसा करने से उसे कब्ज की प्रॉब्लम नहीं होगी.

मोटापा कम करने के लिए

मोटापा अनेक रोगों को न्योंता देता है ऐसे में अगर एलोवेरा ज्यूस हर रोज 30-20 मिली. पियें तो मोटापे से छुटकारा मिल सकता है. बहुत से लोग मोटापे से छुटकारा पाने के लिए एलोवेरा ज्यूस का उपयोग करते हैं.
यह भी पढ़े Heart Attack Kya Hai

हृदय रोग में साहयक

हृदय रोगियों के लिए एलोवेरा (Aloe Vera) रामबाण की तरह है अगर एलोवेरा का ज्यूस दिन में एक या दो बार लगातार पियें तो हृदय रोग में राहत मिल सकती है. डॉक्टर भी हृदय रोगी को एलोवेरा ज्यूस पीने के लिए कहते हैं.

बवासीर रोग में

बवासीर जैसी बीमारी से भगवान हमें दूर रखे उतना ही अच्छा है, यह बहुत दर्दनाक बीमारी होती है इस बीमारी से छुटकारा पाने के लिए एलोवेरा ज्यूस का उपयोग किया जाता है. हमने उपर बताया है की एलोवेरा से कब्ज की प्रॉब्लम से छुटकारा मिलता है और कब्ज ही बवासीर का निर्माता है ऐसे में एलोवेरा से बवासीर रोग से छुटकारा पाया जा सकता है.

मधुमेह रोगी ( शुगर)

मधुमेह यह रोग एक बार होने के बाद इसके खत्म होने के चांस बहुत कम होते है फिर भी अगर निरंतर और सही से एलोवेरा ज्यूस का सेवन करें तो मधुमेह को काफी हद तक ठीक किया जा सकता है. यह शुगर लेवल को कंट्रोल में रखता है.
यह भी पढ़े Diabetes Meaning Symptoms शुगर का घरेलू इलाज

त्वचा संबधित प्रॉब्लम

एलोवेरा की जेली त्वचा से जुड़ी सभी प्रॉब्लम का हल बनती है. इससे घर में ही फेसवाश तैयार किया जा सकता है और चेहरे एंव त्वचा संबधित सभी प्रॉब्लम में इसका उपयोग किया जा सकता है. इतना ही नहीं त्वचा संबधित जितनी भी दवाइयां बनती है वो एलोवेरा से ही बनती है. यह एक बहुत ही अच्छा एंटीवायटीक है.

बालों की चमक बढाने के लिए

यदि कोई अपने बालों की चमक बढाना चाहते है तो उन्हें एलोवेरा जेल या रस में मेहंदी मिलाकर बालों पर लगानी चाहिए. ऐसा करने से बाल चमकील एंव सवस्थ होते हैं.
Benefits Of Aloe Vera

पीलिया रोग निवारण

पीलिया से छुटाकारा पाने के लिए भी एलोवेरा का ज्यूस पी सकते हैं.

पेट पर बने निशान

यदि गर्भावस्था के दौरान पेट पार निशान बनते है तो उनसे भी एलोवरा की मदद से छुटकारा पाया जा सकता है. एलोवेरा का ज्यूस हर रोज पीने एंव मुल्तानी मिट्ठी में एलोवेरा का रस मिलाकर पेट के निशानों पर लगाने से निशान हट सकते हैं.

जोड़ों के दर्द में

यदि किसी को जोड़ो का दर्द है या फिर कमर दर्द है तो वह एलोवेरा का ज्यूस हर रोज पियें, ऐसा करने से बहुत जल्द आपको दर्द में आराम मिलेगा.

एलोवेरा के उपयोग में सावधानियां

कहते है ना की जो चीज बहुत काम की होती है उसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं. इसलिए एलोवेरा के इस्तेमाल में भी बहुत सावधानियां बरतनी पड़ती है.
गर्भवती महिला को कभी भी एलोवेरा ज्यूस नहीं पीना चाहिए, क्योंकि एलोवरा बहुत गर्म होता है और इससे गर्भपात का खतरा बना रहता है.
एलोवेरा का उपयोग सही से करें अन्यथा एलोवेरा से एलर्जी हो सकती है.
* एलोवेरा ज्यूस अधिक मात्रा में पीने से गुर्दों की प्रॉब्लम हो सकती है.
एलोवेरा की जेली का उपयोग त्वचा पर करने से पहले यह जरुर जान ले की वह ताजा हो, अन्यथा आपकी त्वचा को नुकसान भी पहुंचा सकती है.
एलोवेरा का ज्यादा यूज़ करने से डायरिया होने का खतरा रहता है.

* किसी बीमारी की दवा लेने वाले एलोवेरा ज्यूस का सेवन दवा के साथ कभी ना करें, अन्यथा परिणाम बुरा हो सकता है.
हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको कैसी लगी हमें जरुर बताएं. अपने दोस्तों एंव फैमिली के साथ इस पोस्ट को शेयर जरुर करें, ताकि वह भी एलोवेरा के फायदे एंव नुकसान के बारें में पढ़ पायें.

Leave a Comment

2 Comments