Technology

Artificial Moon

artificial moon

आज के Blog में हम चीन की एक महत्वकांक्षी योजना के बारे में बात करेंगे, जिसका नाम है Artificial Moon( कृत्रिम चाँद ) ! जिसके द्वारा चीन Chengdu नामक इलाके पर रात में रोशनी करने की कोशिश करेगा ,ये सॅटॅलाइट कब लांच किया जायेगा ? इसका क्या फायदा होगा ? इसका क्या नुक्सान है ? तथा क्या यह इतिहास में पहली बार होने जा रहा है ? ये सब सवालो के जवाब आपको इस Blog को पूरा पढ़ने पर मिल जायेंगे…..

चीन की एक Aerospace कंपनी , रात में प्रकाश करने के लिए Street Light की जगह कृत्रिम चाँद लगाने की एक महत्वकांक्षी योजना की घोषणा की है ! People’s Daily State Newspaper के मुताबिक़ एक निजी Aerospace कंपनी के अधिकारी ने कहा है कि वो Chengdu शहर के लिए, रात में प्रकाश करने के लिए 2020 तक एक “Illumination Satellite” को लांच करेंगे !

Chengdu Aerospace Science Institute Microelectronics System Research Institute Co, Ltd

के अध्यक्ष ने कहा कि इस विचार पर कई वर्षो से काम चल रहा था लेकिन अब हमारे पास Technology है और वो एक कृत्रिम चाँद को 2020 तक Orbit में लगा देंगे और उन्होंने आगे कहा कि वो 2022 तक ऐसे तीन Satellite Launch करने का Plan कर रहे है ! लेकिन इसके बारे में कोई राय नहीं है कि इस Project को कोई Official Support मिला है या नहीं ?

कृत्रिम चाँद कैसे काम करेगा ?

कृत्रिम चाँद एक Mirror की तरह काम करेंगे जो सूर्य की रोशनी को पृथ्वी पर Reflect करेगा !
यह पृथ्वी के Orbit में 500 km के अंदर होगा तथा असली चाँद जिसकी दुरी 380,000 की दुरी पर है ये कृत्रिम चाँद सूर्य की रोशनी को 10 km से 80 km के बीच में Reflect करेगा तथा यह असली चाँद से आठ गुना ज्यादा चमकदार होगा !
पर इसकी जरुरत क्यों है ?
पैसे बचने किए लिए !

Chengdu Aerospace के अधिकारियों का कहना है कि जितना भुगतान सड़क की Street Lights में किया जाता है उसके मुकाबले सस्ता होगा ये Project ! ऐसा माना जाता है कि 50 km के Area के क्षेत्र में रोशनी करने से सालाना 1. 2 अरब युआन बचा सकते है और तो और आपदा के बाद जो Blackout Area हो जाते है तथा Lights नहीं होती है वह पर भी रात में रोशनी की जा सकती है बिना बिजली के !
क्यूंकि रात में बिजली ज्यादा मेहेंगी होती है तो अगर 15 सालो तक मुफ्त रोशनी कृत्रिम चाँद से मिलती है तो Chiness Government का बहुत सारा पैसा इस Project से बच सकता है !
क्या यह संभव है ?

Dr. Ceriotti कहते है कि है ये संभव है इसके लिए कृत्रिम चाँद को Chengdu के ऊपर स्थाई रूप से स्थापित करना पडेगा !
Dr. Ceriotti का कहना है कि इसमें सिर्फ एक Problem है जो Satellite Pointing दिशा एकदम सटीक होनी चाहिए क्यूंकि अगर एक डिग्री के सौवे भाग भी अगर सही जगह नहीं लगा तो जिस इलाके पर रोशनी करना चाहते है ,रोशनी वहा पर नहीं पड़ेगी ,बल्कि और किसी इलाके पर पड़ेगी !

पर्यावरण पर इसका प्रभाव :-

Harbin Institute Of Technology के निर्देशक ने बताया कि कृत्रिम चाँद की रोशनी “शाम की चमक के समान “ होगी जिसका जानवरो पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ेगा !
कुछ लोगो का कहना है कि ये रात में जानवरो को भ्रमित करेगा और कुछ दुसरो का कहना है कि चीन के कुछ शहर पहले ही Light Pollution से पीड़ित है और इससे और ज्यादा Light Pollution बढ़ जायेगा !
Dr. Ceriotti कहते है कि यदि प्रकाश तेज होगा तो यह प्रकृति के रात के चक्र को बाधित करेगा तथा इसका असर जानवरो पर भी पड़ेगा और अगर इसका प्रकाश ज्यादा Faint है तो फिर इसका क्या फायदा होगा ?
क्या यह पहली बार है ?
1993 में Russians Scientists ने मीर स्पेस स्टेशन की ओर जाने वाले जहाज से 20 मीटर चौड़ा Reflector भेजा था जो कि 200 km से 420 km के Orbit में था !

Znamya 2 को 1998 में Launch किया गया था जो कि 5 km के ब्यास के इलाके में 8 km/h की रफ्तार से यूरोप के अंदर प्रकाश देता था हालांकि 1990 के दशक के आखिरी वर्षो में Znamya का बडा मॉडल बनाने का असफल प्रयास किया गया था !

Leave a Comment

3 Comments