Technology

Artificial intelligency

artificial-intelligency

दोस्तों आज हम बात करने जा रहे है Computer जगत म बहुत तेज़ी से फैलने वाले तकनीक के बारे में जिसका नाम है Artificial Intelligence
AI जिसका मतलब है Artificial Intelligence या इसको हिंदी में कृत्रिम होशियारी या कृत्रिम दिमाग भी कहते है ! इसके अंतर्गत हम मशीनों को इंसानी Intelligence प्रदान करते है या ये कहे की मशीनों को इतना उन्नत बनाया जाता है कि वो इंसानो की तरह सोच , समझ और कार्य कर सके ! AI के अंतर्गत मशीन इंसानो की तरह सीखना , तर्क करना और आत्म सुधार करना शामिल है !

AI के प्रकार:-

AI को 2 भागो में बाटा जा सकता है !
•पहले प्रकार में AI को Strong AI या Weak AI में बाँटा जाता है !
Weak AI:- जिसे संकीर्ण AI भी कहते है जिसे विशेष कार्य के लिए डिज़ाइन और प्रशिक्षित किया जाता है जैसे Apple का Siri !
Strong AI:- इसको Artificial Gerenal Intelligence के रूप में भी जाना जाता है ! यह एक मानव प्रणाली है जो सामान्य मानव संज्ञानात्मक क्षमताओं के साथ है ताकि जब एक अपरिचित कार्य इसको दिया जाए तो उसका समाधान खोज सके !

•इसका दूसरा उदाहरण Arend Hintze ,जोकि एक Assistant Professor of Integrated biology and Computer Science and Engineering at Michigan State University ने दिया है ! ये AI को 4 प्रकारो से विभाजित करते है:-

•Reactive Machines
•Limited Memory
•Theory of Mind
•Self-Awareness

artificial-intelligency

artificial-intelligency


यह भी पढ़े Artificial Moon

AI का इतिहास:-

एक अमेरिकी computer वैज्ञानिक John McCarthy ने 1956 में Dartmouth Conference में शब्द बनाया , जहा अनुशासन का जन्म हुआ था ! आज, यह एक छतरी शब्द है जिसमे रोबोटिक प्रक्रिया स्वचालन से वास्तविक रोबोटिक्स तक सब कुछ शामिल है ! हाल ही में, बड़े Data में या गति , आकार और व्यवसाय की विविधता में वृद्धि के कारण हाल में ही ये प्रमुखता प्राप्त हुई है AI मानवो की तुलना में Data में पैटर्न की पहचान करने जैसे कार्यो को निष्पादित कर सकता है जिससे व्यवसायो को उनके Data से अधिक अंतर्दृष्टि प्राप्त हो सके !

AI के उदाहरण:- AI विभिन्न प्रकार की तकनीकों में शामिल है यहाँ पर कुछ उदहारण है:-

•Automation:- ऐसा क्या है जिसके कारण कोई सिस्टम या Process Automatically काम करते है ! उदाहरण के लिए Robotic Process Automation (RPA) को उच्च मात्रा या दोहराने योग्य काम के लिए Progrmmed किया जा सकता है जो कि सामान्य मनुष्य की तरह कार्य करते है RPAबदलती हुई परिस्थितियों के अनुकूल बदल सकता है !

•Machine Learning :- Machine Learning के तीन प्रकार के Algorithms है !

1.Supervised Learning:- डेटा सेट लेबल नहीं होते है ताकि पैटर्न का पता लगाया जा सके और नए डेटा सेट लेबल करने के लिए उपयोग किया जा सके !
2. Unsupervised Learning:- डेटा सेट लेबल नहीं होते है और समानता या मतभेदों के अनुसार क्रमबद्ध होते है !
3. Reinforcement Learning:- डेटा सेट लेबल नहीं किए जाते है लेकिन कार्यवाही या कई क्रियाए करने के बाद को प्रतिक्रिया दी जाती है !

•Machine Vision:- इसमें Computer को देखने की अनुमति देते है यह तकनीक कैमरा एनालॉग टू डिजिटल रूपांतरण और डिजिटल सिग्नल प्रोसेस का उपयोग करके दृश्य जानकारी को कैप्चर और विश्लेषण करती है !
•National Language Process:- NPL, Machine Learning पर आधारित है ! NPL कार्यो में Text Translation ,Sentiment Analysis और Speech Recognition !
•Self Driving Car:- ये किसी दिए गये लेन में रहते हुए और पैदल चलने वालो जैसे अप्रत्याशित बाधाओँ से परहेज करते हुए वाहन चलाने के लिए स्वचालित कौशल बनाने के लिए दृष्टि छवि पहचान और गहरी शिक्षा का संयोजन का उपयोग करते है !

AI Application:-

1.AI in Healthcare
2.AI in Business
3.AI in Education
4.AI in Finance
5.AI in Law
6.AI in Manufacturing

चिंताए और आलोचनाए

जबकि AI उपकरण के लिए नईं कार्यक्षमता की श्रंखला पेश करता है AI कुछ नैतिक प्रश्न भी उठता है
Self Driving कारो के क्षेत्र में नैतिक प्रश्न उठाता है जब एक स्वायत वाहन दुर्घटना में शामिल होता है जहा दुर्घटना अपरिहार्य है जिससे नुकसान को कम करने बारे में नैतिक निर्णय लेने के लिए मज़बूर किया जा सकता है !
AI Tools के दुरूपयोग की संभावना एक और चिंता का विषय है संवेदनशील सिस्टम तक पहुंच प्राप्त करने के लिए परिष्कृत मशीन लर्निंग टूल्स का उपयोग शुरू कर रहे है जोकि वर्तमान स्थिति से परे सुरक्षा के मुद्दे को जटिल बनाते है !
यह भी पढ़े Super Computer

Leave a Comment

2 Comments