Biography

भारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा पाटिल

प्रतिभा पाटिल
भारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति (First woman president of india)

श्रीमती प्रतिभा पाटिल हमारे देश की प्रथम महिला राष्ट्रपति थी | यह एक गौरवशाली राज नेता तथा समाज सेविका थी | इनका समाज के प्रति बहुत योगदान रह है जब यह सर्वप्रथम राष्ट्रपति बनी तब ये एक वकील थी , ये राजस्थान की राज्यपाल भी रह चुकी है इसके अलावा इन्होने और भी पदों पर कार्य किया है | जैसे की कैबिनेट मंत्री, शिक्षा मंत्री , समाज कल्याण मंत्री पर्यटन और आवास मंत्री आदि रह चुकी है |

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा(Early life and education)

श्रीमती प्रतिभा पाटिल का जन्म 19 दिसंबर 1934 में महाराष्ट्र के जलगांव जिले के गांव नन्दगांव में हुआ था | इनके पिता का नाम नारायण राव था | इनके पिता एक राजनेता थे | श्रीमती। पाटिल ने आरआर विद्यालय, जलगांव से अपनी प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त की और बाद में मूलजी जेठ कॉलेज, जलगांव से राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र में अपनी मास्टर डिग्री प्राप्त की। बाद में, उन्होंने सरकारी लॉ कॉलेज, बॉम्बे (मुंबई) से बैचलर ऑफ लॉज (एलएलबी) की डिग्री प्राप्त की। कॉलेज में रहते हुए, उन्होंने टेबल टेनिस में उत्कृष्ट भूमिका निभाई और विभिन्न इंटर-कॉलेज टूर्नामेंटों में कई ख़िताब जीते। एक विधायक के रूप में, उन्होंने कानून के छात्र के रूप में अपनी पढ़ाई पूरी की।
यह भी पढ़े
Sandeep Maheshwari Biography
Major Dhyanchand Biography (मेजर ध्यानचंद का जीवन परिचय )

राजनीतिक जीवन (Political career)

सन 1962 में प्रतिभा पाटिल जी कांग्रेस पार्टी का हिस्सा बनी और राजनीति में प्रवेश किया | 27 की उम्र में ये मुंबई जलगांव विधानसभा से विधायक बनी थी | उसके बाद वह मुक्तिनगर विधानसभा से लगातार चार बार (1967 से 1985 तक) विधायक बनी | सन 1985 से 1990 के बीच प्रतिभा पाटिल जी को राज्यसभा का सदस्य चुना गया | 8 नवम्बर सन 2004 में इन्हे राजस्थान के 24वें गवर्नर के रूप में चुना गया | सन 2007 में इन्हे भारत का प्रथम राष्ट्रपति पद के लिए चुना गया | श्रीमती प्रतिभा पाटिल भारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति बनी |

परिवार (Family)

प्रतिभा जी ने 1965 में Dr. देवीसिंह आर शेखावत से विवाह कर लिया | प्रतिभा पाटिल जी के 2 बच्चे है राजेंद्र और ज्योति |
प्रतिभा पाटिल

सामाजिक कार्य (Social work)

प्रतिभा जी हमेशा से सामाजिक गतिविधियो के लिए कार्य करती रहती थी | इन्होने महिलाओ के कल्याण एव् ग्रामीण अर्थव्यवस्था के विकास के लिए बहुत से काम किये | जैसे महिलाओ के लिए सिलाई , संगीत और कंप्यूटर की क्लासेज खुलवायी | गरीब और पिछड़े वर्गों के बच्चो के लिए नर्सरी स्कूल की व्यवस्था की | किसानो को अच्छी फसल उगाने के लिए कृषि विज्ञान केंद्र की स्थापना की | इन्होने लड़कियों के लिए हॉस्टल की व्यवस्था भी की और इसके साथ-साथ जलगांव जिले में महिला होम गॉर्ड की स्थापना भी की |

“Women have talent and intelligence but, due to social constraints and prejudices, it is still a long distance away from the goal of gender equality.”

Leave a Comment

1 Comment